Essay on paryavaran in hindi

Paryavaran Essay in Hindi : पर्यावरण पर हिंदी निबंध

Paryavaran Essay in Hindi – दुनियाभर के सभी प्राणियों को स्वास्थ्य और पृथ्वी पर जिंदा रहने के लिए शुद्ध और शांतिपूर्वक पर्यावरण की जरूरत है। रोजाना पर्यावरण में होने वाली विभिन्न प्रकार की गतिविधियां हमारे रोजाना के जीवन पर गहरा असर डालती है। पर्यावरण जितना साफ़ रहेगा उतना ही हम ख़ुशहाल जीवन जी सकते हैं। जिस हवा में हम रोजाना सांस लेते हैं , पानी जो रोज़ाना इस्तेमाल करते हैं इसके इलावा पौधे , जीवित चीज़ें आदि यह सब हमारे पर्यावरण का ही एक हिस्सा है। यदि प्रकृति में किसी प्रकार का असंतुलन पैदा हो जाए तो इसका सीधा बुरा असर हमारे पर्यावरण पर ही पड़ता है।

Paryavaran Essay in Hindi

आज के समय में मनुष्य अपने स्वार्थ के लिए पर्यावरण के साथ खिलबाड़ कर रहा है इसका दुरूपयोग कर रहा है। लगातार होती पेड़ों की कटाई , बढ़ता हुआ प्रदुषण हमारे पर्यावरण को नुक्सान पहुंच रहा है। इसका बुरा असर धरती पर रहने वाले सभी प्राणियों पर पड़ता है। इसीलिए इसके प्रति सुचेत होने की बहुत ज्यादा जरूरत है नहीं वो दिन दूर नहीं जब इंसान अपनी बर्बादी का कारन खुद ही बन कर रह जाएगा। लगातार बढ़ रही आबादी के कारण वाहन भी बढ़ते जा रहे हैं जिसके तहत शुद्ध हवा दूषित हो रही है इसके लिए हमें वनों की अधिक जरूरत पड़ेगी जो हवा शुद्ध रखते हैं ।

पर्यावरण (Paryavaran) में सुधार के लिए सरकार कई अभियान चला रही है और हाल ही में स्वच्छ भारत अभियान शुरू किया गया है और कई सख्त क़ानून भी लागू किये गए हैं और हर वर्ष 5 जून को पूरे विश्वभर में पर्यावरण की सुरक्षा के प्रति लोगों में जागरूकता पैदा करने के लिए मनाया जाता है। इसीलिए इस गंभीर समस्या से निपटने के लिए देश के हर नागरिक को इसकी जिम्मेबारी लेनी चाहिए और वो पर्यावरण को साफ़ रखने में अपना भरपूर योगदान दे। हमारे द्वारा की गयी छोटी सी पहल हमारे पर्यावरण को साफ़ सुथरा रखने में एहम योगदान देगी।

पर्यावरण प्रदूषण पर निबंध Essay on Environmental Pollution in Hindi

पर्यावरण प्रदूषण पर निबंध Essay on Environmental Pollution in Hindi

क्या आप हमारे आस-पास होने वाले प्रदुषण के विषय में जानना चाहते हैं?
क्या आप प्रदुषण के स्रोत, कारण, इसके प्रभाव और इसको समाधान करने के उपायों के बारे में पढना चाहते हैं?
क्या आप हमारे पृथ्वी को बचाने के लिए पर्यावरण के महत्व के विषय में लोगों को जागरूक करना चाहते हो

पर्यावरण प्रदूषण पर निबंध Essay on Environmental Pollution in Hindi

पर्यावरण ही जीवन Environment is Life

पर्यावरण प्रदूषण (Environmental pollution) का अर्थ होता है पर्यावरण का विनाश। यानि की ऐसे माध्यम जिनके कारण हमारा पर्यावरण दूषित होता है। इसका प्रभाव से मनुष्य और प्राकृतिक दुनिया को ना भुगतना पड़े उससे पहले हमें इसके विषय में जानना और समझना होगा।

मुख्य प्रकार के पर्यावरण प्रदूषण हैं – वायु प्रदुषण, जल प्रदुषण, ध्वनि प्रदुषण, ऊष्मीय प्रदूषण, मिट्टी प्रदूषण और प्रकाश प्रदूषण। धीरे-धीरे विश्व की जनसँख्या बढती चहली जा रही है जिसके कारण वनों की कटाई भी जोरो से हो रही है। इन बीते 10-15 वर्षों में वनों की कटाई के कारण, पृथ्वी में कई प्रकार के खतरनाक गैसीय उत्सर्जन हुए हैं।

हम एक ऐसे सुन्दर ग्रह पृथ्वी में रहते हैं जो एक मात्र ऐसा ग्रह है जहाँ पर्यावरण और जीवन है। पर्यावरण को स्वच्छ रखने का एक ही सबसे बेहतरीन तरीके है वो है पानी और वायु को स्वच्छ रखना। पर आज के दिन में मनुष्य इसके विपरीत कर रहा है पानी और वायु को प्रदूषित।

हमें इस बात को समझना होगा कि अगर हम पृथ्वी को बचाना चाहते हैं तो हमें कड़े कदम उठाने होगे जिससे की हमारा पर्यावरण दूषित होने से हम बचा सकें। बिना जल और वायु के पृथ्वी में भी जीवन का अंत हो जायेगा।

पृथ्वी का जीवमंडल कई प्रकार के चीजों का एक मिश्रण है जैसे ऑक्सीजन, नाइट्रोजन, कार्बन डाइऑक्साइड, आर्गन, और भाप। सभी जीवजंतुओं के जिनके लिए यह सभी चीजें बहुत ही जरूरी हैं इसलिए इन सभी चीजों का संतुलित होना भी बहुत महत्वपूर्ण है।

लेकिन जिस प्रकार मनुष्य प्रकृति के साथ खिलवाड़ करते चले जा रहा है इसकी आशा बहुत कम दिखाई देती है।

स्रोत और कारण Source and Causes

पर्यावरण प्रदुषण के स्रोत और कारण कुछ इस प्रकार से हैं –

  • आज के मनुष्य को जीवन यापन के लिए कई प्रकार की वस्तुओं की आवश्यकता होती है और दिन बदिन इसकी मांग भी बढती चली जा रही है। जरूरत के कारण कई जगह के पेड़ पौधे काट कर उन जगहों पर कई कारखानों का निर्माण किया जा रहा है। उसके बाद उन कारखानों से 3 प्रकार से प्रदुषण हो रहा है। पहला पेड़ काटने के कारण, दूसरा कारखाना से निकलने वाला ज़हरीला पानी सीधा अन्य बड़े जल स्रोतों से मिल रहा है और दूषित कर रहा है, तीसरा कारखानों से निकलने वाला धुआं जो वायु में मिल कर वायु प्रदुषण को बढ़ावा दे रहा है।
  • लोग कूड़ा को सही तरीके से नष्ट नहीं करते जिसके कारण मिटटी की उर्वरता शक्ति भी ख़त्म हो जाती है।
  • धीरे-धीरे मनुष्य वाहनों पर निर्भर हो चुका है जिसके कारण लाखों-करोड़ों गाड़ियों से निकलने वाला धुआं वायु प्रदुषण का मुख्य कारण बन चूका है। उसके साथ-साथ इन वाहनों से निकलने वाले तेज़ आवाज़ के कारण ध्वनि प्रदुषण भी फैल रहा है।
  • लोगों की बढती जनसँख्या के कारण और गाँव का शहर में बदलने के कारण हरे भरे बृक्षों को काट दिया जा रहा है जो प्रदुषण का एक बहुत बड़ा कारन है।
  • आज कृषि क्षेत्र में भी ज्यादा फसल के लिए किसान कई प्रकार के खतरनाक फ़र्टिलाइज़र और कीटनाशक का इस्तेमाल कर रहे हैं जो मनुष्य का जीवनकाल कम करना का मुख्य कारण है।

प्रभाव और समस्या Impact and problem

पर्यावरण प्रदुषण का पृथ्वी और मनुष्य दोनों पर बहुत ही बुरा और नकारात्मक प्रभाव पड़ रहा है। आज ज्यादा से ज्यादा पैसे कमाने और लाभ के लिए मनुष्य विज्ञानं की मदद ले रहा है। परन्तु इस चक्कर में कई प्रकार के हानिकारक रसायन उत्पादों को हम हर दिन खा रहे हैं और हर दिन प्रकृति के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं।

ना सिर्फ भारत में पुरे विश्व में प्रदुषण का यही हाल है। सबसे बड़ा सवाल बस यही है कि क्या हम सही दिशा में चल रहे हैं? इसका सीधा उत्तर है- बिल कुल नहीं, क्योंकि कोई भी विनाश का रास्ता सही नहीं होता है।

प्रदुषण के कारण कई प्रकार की बीमारियों से पुरे विश्व भर के लोगों को सहना पड़ रहा है। इनमें से कुछ मुख्य बीमारियाँ और स्वास्थ से जुडी असुविधाएं हैं – टाइफाइड, डायरिया, उलटी आना, लीवर में इन्फेक्शन होना, साँस से जुडी दिक्कतें आना, योन शक्ति में कमी आना, थाइरोइड की समस्या, आँखों में जलन, कैंसर, ब्लड प्रेशर, और ध्वनि प्रदुषण के कारण गर्भपात।

जो भी सामान आज के दिन में हम खाते हैं, पीते हैं सब कुछ प्रदुषण की चपेट में आ चूका है। हर चीज दूषित हो चूका है जिसके कारण कई लाइलाज बीमारियां फ़ैल चुकी हैं।

जल को प्रदूषित करने के कारण अब पीने का पानी भी पृथ्वी पर बहुत कम बच गया है। आंकड़ों के अनुसार पृथ्वी पर 71 प्रतिशत जल है परन्तु उसमें से मात्र 1 प्रतिशत पानी ही पीने लायक है। लोगों को कपडे धोने, खाना पकाने और खेती किसानी के लिए भी पानी का देख कर उपयोग करना चाहिए।

ज्यादातर कारखाने ज्यादा आबादी वाले क्षेत्रों में निर्माण किये गए हैं जिसके कारण टी बी, अस्थमा, और ह्रदय से जुडी बीमारियों से लोगों को भुगतना पद रहा है।

भूमि या मिट्टी प्रदुषण के कारण अब भूजल भी भारी मात्रा में दूषित हो चूका है। वैज्ञानिकों का मानना है हम मनुष्य स्वयं के बनाये हुए सामूहिक विनाश के वातावरण में जी रहे हैं।

पर्यावरण प्रदुषण का समाधान Pollution Control

  • जो भी कारखाने बनाये जा चुके हैं उन्हें तो अब हटाया नहीं जा सकता है परन्तु सरकार को आगे बनाये जाने वाले कारखानों को शहर से दूर बनाना चाहिए।
  • ऐसी योजनायें और गाड़ियां बनाना चाहिए जिनसे कम धुआं निकले या वायु प्रदुषण को हम ज्यादा से ज्यादा रोक सकें।
  • जंगलों और पेड़ पौधों की कटाई को किसी भी तरह रोकना चाहिए।
  • नदी के पानी में कचरा फैक कर दूषित करने से लोगों को रोकना चाहिए और नदी के पानी को (सीवेज रीसायकल ट्रीटमेंट) की मदद से स्वच्छ करके पीने के कार्य में लगाना चाहिए।
  • प्लास्टिक का इस्तेमाल बंद कर के रीसायकल होने वाले बैग का इस्तेमाल करना चाहिए। हाला की भारत में कई बड़े शहरों में इसको अनिवार्य कर दिया गया है परन्तु सही तरीके से अभी लागु नहीं हुआ है।

अंत में बस में पुरे विश्व भर के लोगों को बस इतना कहना चाहूँगा कि आप जितना हो सके हमारे पृथ्वी को स्वच्छ रखें, दूषित ना करें क्योंकि पृथ्वी हमारा घर है। पृथ्वी का विनाश यानि मनुष्य का विनाश।

Results for essay on paryavaran ki raksha translation from English to Hindi

Human contributions

From professional translators, enterprises, web pages and freely available translation repositories.

essay on paryavaran ki raksha

पर्यावरण की रक्षा पर निबंध

Last Update: 2016-09-13
Usage Frequency: 21

essay on paryavaran ki raksha

essay on pariyavaran ki raksha

Last Update: 2016-01-13
Usage Frequency: 1

Reference: Anonymous

essay on paryavaran ki raksha

Last Update: 2015-04-21
Usage Frequency: 1

Reference: Anonymous

Last Update: 2015-01-27
Usage Frequency: 1

Reference: Anonymous

essay on-paryavaran ki raksha marathi

निबंध पर पर्यावरण की रक्षा मराठी

Last Update: 2015-07-28
Usage Frequency: 1

Reference: Anonymous

essay on paryavaran ki raksha hamara kartavyar

पर्यावरण की रक्षा हमारा kartavyar पर निबंध

Last Update: 2015-10-11
Usage Frequency: 1

Reference: Anonymous

essay on paryavaran

पर्यावरण पर निबंध

Last Update: 2017-06-29
Usage Frequency: 1

Reference: Anonymous

essay on paryavaran ki raksha shrusti ki raksha

ब् ki रक्षा shrusti ki रक्षा पर निबंध

Last Update: 2015-11-23
Usage Frequency: 1

Reference: Anonymous

essay on matrubhumi ki raksha

matrubhumi की रक्षा पर निबंध

Last Update: 2015-08-18
Usage Frequency: 1

Reference: Anonymous

paragraph on-paryavaran ki raksha

पैरा पर पर्यावरण की रक्षा

Last Update: 2015-02-21
Usage Frequency: 1

Reference: Sajid.91

short play on paryavaran ki raksha

पर्यावरण ki रक्षा पर एकांकी नाटक

Last Update: 2016-05-03
Usage Frequency: 1

Reference: Anonymous

essay on paryavaran ki shuddhi bharat

Last Update: 2017-05-23
Usage Frequency: 1

Reference: Anonymous

essay on paryavaran introduction

पर्यावरण परिचय पर निबंध

Last Update: 2017-01-10
Usage Frequency: 1

Reference: Anonymous

essay on paryavaran aur hum

पर्यावरण और हम पर निबंध

Last Update: 2016-09-29
Usage Frequency: 1

Reference: Anonymous

essay on paryavaran pradushan

पर्यावरण pradushan पर निबंध

Last Update: 2016-06-10
Usage Frequency: 15

Reference: Anonymous

sanskrit essay on paryavaran

पर्यावरण पर संस्कृत निबंध

Last Update: 2015-12-25
Usage Frequency: 3

Reference: Anonymous

essay on paryavaran pariwartan

पर्यावरण pariwartan पर निबंध

Last Update: 2015-12-07
Usage Frequency: 1

Reference: Anonymous

essay on paryavaran ki shuddhi bharat

पर्यावरण की शुद्धि भारत पर निबंध

Last Update: 2015-11-16
Usage Frequency: 1

Reference: Anonymous

essay on paryavaran pradushan

पर्यावरण प्रदूषण पर निबंध

Last Update: 2015-09-30
Usage Frequency: 1

Reference: Anonymous

essay on paryavaran pradushan

Last Update: 2015-07-16
Usage Frequency: 1

Reference: Anonymous

Get a better translation with human contributions

Credits — Computer translations are provided by a combination of our statistical machine translator, Google, Microsoft, Systran and Worldlingo.